Himachal News

खीरगंगा से हटना शुरू हो हुए कैफ़े और कैंप

शिमला उच्च न्यायालय के आदेश के बाद कुल्लू जिले के सबसे प्रसिद्ध ट्रेक खीरगंगा से कैफ़े और कैंप मालिकों ने पलायन शुरू कर दिया है. वन विभाग के एक अधिकारी के अनुसार शिमला उच्च न्यायालय ने कैफ़े और कैंप के मालिकों को जगह खाली करने के लिए 2 महीने का समय दिया था. समय सीमा पूरी होने के बाद कैंप और कैफ़े मालिकों ने खीरगंगा से अपने कैंप और कैफ़े हटाने शुरू कर दिए हैं.

Image Source: Hillsyatra.com

पार्वती खंड के वन अधिकारी हीरालाल राणा ने बताया कि खीरगंगा वन्य क्षेत्र का हिस्सा है जिसके कारण किसी तरह कि व्यावसायिक गतिविधियां चलने कि अनुमति नहीं है. इसी कारण इस जगह से सभी तरह के स्थायी अस्थायी ढांचों को साफ़ करने का निर्णय लिया गया है.
खीरगंगा गरम पानी के चश्मे के लिए प्रसिद्ध है. भारी संख्या में पर्यटकों कि आवाजाही के कारण यहाँ पर 50 से अधिक कैफ़े बना दिए गए थे. पर्यटन गतिविधियों के कारण वहां के पर्यावरण पर काफी बुरे प्रभाव पड़ रहे थे.

पिछले 2 सालों से हीलिंग हिमालय नमक एक संस्था ने खीरगंगा ट्रेक पर कई सफाई अभियान चलाये और हर बार भारी मात्रा में प्लास्टिक इकठ्ठा करके वापिस लाये. संस्था के संस्थापक प्रदीप सांगवान ने बताया कि खीरगंगा में इस हद तक पर्यटन गतिविधियों व्यावसायिक हो चूका था कि सड़क न होने के बावजूद स्थायी और पक्के ढांचे बना दिए गए थे.

हालाँकि पर्यटन गतिविधियों पर किसी तरह कि रोक नहीं लगाई गयी है. लेकिन खीरगंगा में अब रहने तथा खाने कि कोई सुविधा नहीं मिल पायेगी. रहने और खाने का इंतज़ाम पर्यटकों को अपने आप ही करना पड़ेगा.

राणा ने बताया कि अब पर्यटकों को खीरगंगा जाने के लिए वन विभाग से परमिट लेना पड़ेगा. परमिट मिलने के बाद ही खीरगंगा पर कैंपिंग कि जा सकेगी.

Related Post

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *